Mon Mar 27 12:33:12

अजमेर ब्लास्ट केस: दो दोषियों को कोर्ट ने सुनाई उम्रकैद की सजा
जयपुर। अजमेर बम ब्लास्ट केस में फैसला सुनाते हुए जयपुर की विशेष एनआईए अदालत ने बुधवार को दो दोषियों भावेश पटेल और देवेन्द्र गुप्ता को उम्रकैद की सजा सुनाई है। जयपुर की विशेष अदालत अजमेर स्थित सूफी ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती दरगाह परिसर में करीब 9 साल पहले हुए धमाका मामले में सुनील जोशी, भावेश पटेल और देवेन्द्र गुप्ता को दोषी माना था। दोषी पाए गए आरोपियों में से सुनील जोशी की मौत हो चुकी है जबकि कोर्ट ने असीमानंद समेत सात आरोपियों को बरी कर दिया था। इससे पहले 18 मार्च को फैसला सुनाया जाना था, लेकिन कोर्ट ने सुनवाई बुधवार तक के लिए टाल दी थी। राष्ट्रीय जांच एजेंसी के मामलों की विशेष अदालत के जज दिनेश गुप्ता ने 8 मार्च को सुनाए अपने फैसले में अजमेर स्थित सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह परिसर में 11 अक्टूबर 2007 को आहता-ए-नूर पेड़ के पास हुए बम विस्फोट मामले में देवेन्द्र गुप्ता, भावेश पटेल और सुनील जोशी को दोषी करार दिया था। दोषी पाए गए आरोपियों में से सुनील जोशी की मौत हो चुकी है जबकि कोर्ट ने असीमानंद समेत सात आरोपियों को बरी कर दिया था। कोर्ट ने देवेन्द्र गुप्ता, भावेश पटेल और सुनील जोशी को आईपीसी की धारा 120 बी, 195 और धारा 295 के अलावा विस्फोटक सामग्री कानून की धारा 34 और गैर कानूनी गतिविधियों का दोषी पाया है। अजमेर दरगाह में 11 अक्टूबर 2007 को हुए धमाके में तीन लोगों की मौत हुई थी और 15 लोग घायल हुए थे।
राम मंदिर मुद्दा: अयोध्या में निकालेंगे राह, अखाड़ा परिषद की तैयारियां शुरू
लखनऊ। अयोध्या में राम जन्म भूमि मंदिर निर्माण के मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट द्वारा हालिया दिए गए निर्देश का स्वागत करते हुए अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने मामले में पहल करते हुए आपसी सहमति से मंदिर निर्माण का रास्ता तैयार करने को तैयारी शुरू कर दी है। इस मामले में परिषद की तरफ से जल्द ही अयोध्या में पहले सभी हिंदू धर्माचार्यों की बैठक बुलाने का प्रस्ताव बनाया जा रहा है। इस बैठक में मंदिर निर्माण के लिए आपसी सहमति से रास्ता निकालने का प्रस्ताव प्यार किया जाएगा। इसके बाद मामले के दूसरे पक्ष या नहीं बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी और अन्य लोगों को अयोध्या में ही आमंत्रित कर एक संयुक्त बैठक की जाएगी जो मामले का सर्वमान्य हल निकालने की कोशिश करेगी। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता महंत मोहनदास और अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने बताया की बैठक के लिए सभी हिंदू धर्माचार्यों से संपर्क किया जाना शुरू कर दिया गया है। बैठक की तिथि अभी तय नहीं हो की गई है लेकिन इसे धर्माचार्यों से बात कर जल्द तय की जाएगी पर बैठक अयोध्या में ही होगी। उन्होंने आगे बताया कि बैठक में गोरखपुर के गोरक्षधाम मंदिर के महंत पीठाधीश्वर आदित्य योगी आदित्यनाथ जो कि इस वक्त उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री भी हैं को भी आमंत्रित किया जा रहा है। इस बैठक में सर्वमान्य हल के लिए सभी सभी पहलुओं पर विचार कर एक ठोस प्रस्ताव तैयार किया जाएगा जिससे कि किसी को भी आपत्ति ना हो।
सीएम योगी ने सरकारी दफ्तरों में पान मसाला, गुटखे पर लगाया बैन
लखनऊ। हर मामले में सख्ती बरत रहे यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के निशाने पर अब पान मसाला और गुटखा खाने वाले अधिकारी आ गए हैं। उन्होंने सरकारी दफ्तरों में आने वाले कर्मचारियों और अधिकारियों को निर्देश जारी करते हुए कहा कि वो दफ्तर में पान मसाला या गुटखा खाकर ना आएं। उन्होंने यह निर्देश बुधवार को एनेक्सी के दौरे के बाद दिए। उन्होंने सचिवालय एनेक्सी का दौरा किया और वहां दीवारों पर गंदगी देखकर नाराज हुए। निरीक्षण के बाद मीडिया से बात करते हुए डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने सरकारी ऑफिसों में गुटखा, पान मासाला और पान खाने के खिलाफ निर्देश जारी किए हैं। उन्होंने एनेक्सी का दौरा करते हुए साफ सफाई के भी निर्देश दिए। बता दें कि एनेक्सी सचिवालय वो जगह है जहां पूर्व सीएम अखिलेश यादव बैठा करते थे। यहां पर चीफ सेक्रेट्री और होम सेक्रेट्री समेत प्रशासन से जुड़े कई महत्वपूर्ण दफ्तर भी हैं।
संसद में आदित्यनाथ बोले, मोदी सरकार ने देश की साख बढ़ाई
नई दिल्ली। उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज संसद में बोलते हुए कहा कि मोदी सरकार ने देश की साख बढ़ाई है और देश के विकास में इस सरकार का काफी योगदान है। उन्होंने कहा कि पिछले तीन साल में देश की विकासद में भी इजाफा हुआ है। दुनिया भर के चुनावों में मोदी की चर्चा होती है। मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी पहली बार लोकसभा में बोल रहे हैं। उन्?होंने भाजपा सरकार और अर्थव्?यवस्?था पर जोर देते हुए कहा कि नोटबंदी पर पूरी दुनिया की नजर थी। योगी ने संसद में दावा करते हुए कहा कि उत्?तरप्रदेश गुंडागर्दी, अपराधों से मुक्?त प्रदेश होगा। यहां अब महिलाओं को असुरक्षित महसूस करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अब मैं पूरे सदन को आमंत्रित करुंगा कि वे आएं और देखें कि उप्र में अब बहुत कुछ बंद होने जा रहा है। अब उप्र पूरी तरह बदल दिया जाएगा। उप्र अब जातिगत भेदभाव से उपर उठेगा और हम संसाधनों का, आर्थिक स्?त्रोतों का सदुपयोग करेंगे। प्रदेश में पलायन बंद होगा, रोजगार के रास्?ते खुलेंगे और अब यूपी को हम दंगा मुक्?त प्रदेश बनाने जा रहे हैं। हम उत्?तरप्रदेश को उत्?तमप्रदेश बनाएंगे।

राम मंदिर मुद्दा: निर्मोही अखाड़ा बोला-दावा छोड़े मुस्लिम, जिलानी को रास नही आई स्ष्ट की राय
नई दिल्ली। देश के सबसे संवेदनशील राममंदिर-बाबरी मस्जिद मुद्दे सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि सभी पक्ष कोर्ट से बाहर बातचीत से मसले को हल करने की कोशिश करें। देश की सबसे बड़ी अदालत ने मध्यस्थता करने की पेशकश भी की। इसके बाद देशभर से प्रतिक्रियाओं को दौर जारी है। निर्मोही अखाड़ा ने अदालत की सलाह का स्वागत किया है और कहा है कि मुस्लिम जमीन पर दावा छोड़ देना चाहिए। अदालत के इस फैसले का केंद्र सरकार ने स्वागत करते हुए कहा कि इस मुद्दे को अदालत के बाहर सुलझाने की पूरी कोशिश करेंगे। कानून राज्यमंत्री पीपी चौधरी के मुताबिक, हम कल से ही मध्यस्थता शुरू करने को तैयार हैं। वहीं, खबर है कि बाबरी मस्जिद एक्शन समिति ने इस पेशकश को ठुकरा दिया है। उसके सदस्यों का कहना है कि कई दौर की बातचीत हो चुकी है लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला है। बीबीसी के मुताबिक, बाबरी मस्जिद एक्शन समिति के सदस्य सैयद कासिम रसूल इल्यास का कहना है, बातचीत का मतलब है सरेंडर। हालांकि जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है। उनका भी मानना है कि दोनों पक्षों को बैठकर हल निकालना चाहिए। मामले से जुड़े जफरयाब जिलानी की प्रतिक्रिया है कि हम सुझाव का स्वागत करते हैं, लेकिन हमें कोई आउट ऑफ कोर्ट सैटलमेंट मंजूर नहीं। अगर सुप्रीम कोर्ट कोई मध्यस्थता से हल निकलता है, तो हम तैयार हैं। भाजपा प्रवक्ता संविद पात्रा का कहा है कि पार्टी सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी का व्यापक अध्ययन करेगी और संबंधित पक्ष इसको मिलकर सुलझाएंगे। वहीं राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (क्रस्स्) के विचारक राकेश सिन्हा ने कहा है कि अयोध्या में राम मंदिर पहले से ही था। लिहाजा वहां राम मंदिर का ही निर्माण होना चाहिए। मस्जिद का निर्माण नहीं होना चाहिए। इस मसले को बातचीत के जरिए सुलझाना चाहिए। अब समाधान ढूढऩे में दिक्कत नहीं होनी चाहिए। वहीं याचिकाकर्ता सुब्रमण्यम स्वामी का कहना है कि हम बातचीत के लिए तैयार हैं। राम जहां पैदा हुए, मंदिर वहीं बनेगा, मस्जिद को सरयू नदी के उस पार बनाया जाना चाहिए। हमें उम्मीद है कि मुस्लिम समुदाय इस सकारात्मक प्रस्ताव पर विचार करेगा।

अब अखिलेश क्या बोलेगा....कांग्रेस से हाथ न मिलाते तो यूपी में होती हमारी सरकार: मुलायम
नई दिल्ली। यूपी चुनाव परिणामों पर मुलायम सिंह यादव की प्रतिक्रिया भी आ गई है। नेताजी ने साफतौर पर बेटे अखिलेश यादव को हार के लिए जिम्मेदार ठहराया है। साथ ही कांग्रेस से हाथ मिलाने को भी भारी भूल करार दिया। परिणाम के बाद अखिलेश से कोई बात हुई या नहीं, इस सवाल पर मुलायम ने कहा, अब अखिलेश क्या बोलेगा। अपने निवास पर मीडिया से मुखातिब होते हुए मुलायम ने कहा, जो कोई भी इस गठबंधन को सही कह रहा था वह हकीकत में कोसो दूर था। कांग्रेस को यूपी में कोई पसंद नहीं करता। सपा को इस गठबंधन की कोई जरूरत नहीं थी। हम अपने दम पर चुनाव जीत सकते थे। 2012 में भी तो ऐसा ही हुई था।
यह भी बोले मुलायम
नेताजी के मुताबिक, इस हार की एक और बड़ी वजह पार्टी में चला घमासान है। इस घमासान के बाद लोगों ने सपा को वोट इसलिए नहीं दिया क्?योंकि उनका अपमान किया गया था।
उन्?होंने भाजपा की जीत और सपा की हार को विचित्र बताते हु कहा, यह भाजपा के लिए बहुत बड़ी जीत है, लिहाजा आज उनका दिन है।
यूपी के अंतिम चरण के मतदान से पहले मीडिया के सामने आई पत्?नी साधना पर पूछे गए सवाल के जवाब पर उन्होंने कहा, साधना ने कुछ भी गलत नहीं कहा।
यूपी के चुनाव प्रचार में न उतरने के बाबत मुलायम का कहना था कि 2012 में उन्?होनें करीब 300 रैलियां की थीं लेकिन इस बार केवल चार ही रैलियां की, वह भी बेमन से।
हार के बाद मुलायम की अखिलेश्?ा से बातचीत पर वह बोले कि, अब वह क्?या बोलेगा। उन्?होंने अखिलेश को सलाह दी कि हार के बाद भी उन्?हें जनता के बीच जाकर जनता को बधाई और धन्?यवाद देना चाहिए।
बकौल नेताजी, अब यदि जीत चाहिए तो पार्टी को काम करना होगा। मैंने अपने साथियों के साथ मिलकर दिनरात एक कर पार्टी बनाई और खड़ा किया था। अब हार का दुख छोड़कर इस पर चिंतन किए जाने की जरूरत है।
उन्?होंने यह भी कहा कि देश में किसी भी राज नेता ने अपने जीते जी सत्?ता की कमान अपने बेटे को नहीं सौंपी थी लेकिन उन्?होंने इसके उलट ऐसा किया और सत्?ता का वारिस अखिलेश को बनाया था।

सतना पुलिस का नवाचार: चेकिंग के नाम पर अवैध वसूली
नेशनल हाईवे 75 पर दो पहिया चालको पर भांजी लाठियां, बसो से टकराने से बचे युवक
ड्डह्यद्ब बीएल चौधरी, ह्यद्ब टीपी सिंह, आरक्षक अजीत सिंह, आरक्षक भूपेंद्र सिंह ने रसीद न काटने के नाम पर ले रहे थे 100 रूपये
सतना, मारूति एक्सप्रेस।
सतना पुलिस नित नए दिन अपने नवाचार करने की वजह से सुर्खियों में बनी हुई इसी नवाचार के आदतन को अपनाते हुए कल देर शाम सिविल लाइन थाना प्रभारी से लेकर मैं स्टॉप ओवर ब्रिज के नीचे अचानक चेकिंग अभियान लगा दिया गया शाम ढलते ही जैसे ही वाहनों की गति और लोगों की भीड शहर पर बढऩे लगी उसी मौके का फायदा उठाने के लिए ओवर ब्रिज के नीचे अचानक वहां के आरक्षक अजीत सिंह आरक्षक भूपेंद्र सिंह  और एएसआई बी.एल.चौधरी एवं एसआई टी.पी. सिंह लोगों को रोककर चलानी कारवाही करने लगे चालानी कार्यवाही कम अवैध रूप से वसूली में ज्यादा इनका ध्यान था प्रत्यक्षदर्शियों की माने तो इन्होंने लोगों को इस तरह दौड़ा रहे थेे जैसे मानो कोई आतंकवादी या शातिर अपराधी हो कई लोग तो बसों के नीचे आने से भी बचे क्योंकि यह आम नागरिकों के साथ अभद्रता करने के साथ साथ ल_ा भी भाज रहे थे  और सिविल लाइन थाने के सबसे विवादित ड्डह्यद्ब बी एल चौधरी, टीपी सिंह आरक्षक, अजीत सिंह आरक्षक, भूपेंद्र सिंह लोगों को साइट पर ले जाकर सेटिंग भी कर रहे थे ढाई सौ की रसीद क्यों कटवाते हैं सौ में ही काम हो जाएगा
बिना हेलमेट के ही आए थे नवाचारी पुलिसकर्मी
नवाचार पुलिस आम नागरिकों के लिए तो नए नए कानून बना के लाती है जब मन पड़े मौसम की बहार की तरह जहां मन पड़े वही चेकिंग लगाकर अवैध वसूली शुरु कर देती कल इसी अभियान के तहत सिविल लाइन थाना पुलिस का नजारा देखने को मिला जो भी इस टीम में नवाचारी पुलिस शामिल थे उनमें से किसी के सर पर ना तो हेलमेट थी और ना ही रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस और न ही गाड़ी पर उनके नम्बर थे सिर्फ लिखा था मैं पुलिस हूं। और ना ही इनकी गाडिय़ों की बीमा थे लेकिन फिर भी यह दूसरों के गाडिय़ों के नंबर और लाइसेंस देख रहे थे बाहर सतना पुलिस का नवाचार जब किसी एक ने पूछा कि आपका हेलमेट कहां है तो उस पर ड्डह्यद्ब चौधरी बोले कि मैं तो टोपी लगाया मुझे हेलमेट लगाने की छूट है अब यह छूट पुलिस कप्तान मिथिलेश शुक्ला ने दी या फिर उनके थाना प्रभारी राधिका प्रसाद द्विवेदी ने यह तो वही बता पाएंगे और राहगीरों के साथ अभद्रता करने की भी छूट क्या इन्हीं अधिकारियों द्वारा दी गई की ड्डह्यद्ब चौधरी और उनके स्टाफ को दी गई क्या इसी तरह का नवाचार शहर की जनता के साथ पुलिस करती रहेगी
आइए परिचय करा दे ड्डह्यद्ब बी. एल.चौधरी से
सिविल लाइन थाने में पदस्थ एएसआई बी एल चौधरी का नाम वैसे भी काफी चर्चा रहता है वैसे तो इन का स्थानांतरण हो चुका है लेकिन जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय ने आज तक इन को मुफ्त क्यों नहीं किया यह तो एक आम चर्चा का विषय लेकिन ऐसा ही चौधरी की एक और खासियत 26 जनवरी की दरमियानी रात को ओवर ब्रिज के ऊपर हुए एक्सीडेंट में मुख्त्यार गंज निवासी रवि रामराईका की मृत्यु के बाद यह ट्रक चालक को साइड में ले जाकर सेटिंग करके उसे भागने का पूरा मौका दिया गया और सिविल लाइन थाना क्षेत्र के बाहर तक पहुंचाया गया। इसी कारण चर्चा में आ गया क्योंकि मिर्जापुर के ट्रक के द्वारा युवक के एक्सीडेंट कर के भागने में मदद करने में इनकी सराहनीय भूमिका रही प्रत्यक्षदर्शियों की माने तो ट्रक घंटो खड़े रहने के बाद भी जा वहां से भीड़ कम होने लगी तो क्या साई चौधरी और उनके साथी इन्हीं आरक्षकों के द्वारा उस ट्रक चालक को ट्रक समेत भागने का पूरा मौका दे दिया गया और इसके बारे में अच्छी खासी रकक  वसूली गई जिसके चलते ट्रक चालक फरार होने में कामयाब हो गया लेकिन इंसानियत खो चुकी सतना के पुलिस और उसके होनहार ड्डह्यद्ब चौधरी के चलते ट्रक चालक फरार होने में कामयाब हो गया और उस बालक की मौत के बाद जो दर्द उसके पिता को पहुंचा वह भी कुछ दिन बाद सदमे के चलते हार्ट अटैक से उनकी मौत हो चुकी है इसी तरह का नवाचार करती है सतना की पुलिस
एसआई टी.पी. सिंह और आरक्षको का फार्मूला सौ दीजिए रसीद क्यों कटाते है
एक तो शाम ढलते नेशनल हाईवे और ओवर ब्रिज के नीचे ढलान पर चेकिंग लगाकर आम नागरिकों को डंडे के दम पर वसूली और दौडऩे के चलते यहां कुछ युवक बसों की चपेट में आने से बचे वहीं कुछ चोटिल हो कर घर को चले गए लेकिन इसी बीच वहां मौजूद ड्डह्यद्ब चौधरी के नेतृत्व वाली टीम में जो हरकतें आम नागरिकों को दिखाई उससे पुलिस विभाग तो शर्मसार हुआ साथ ही जनता को भी पुलिस से भरोसा उठने लगा वह मौजूद प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार एस आई डी पी सिंह और आरक्षक भूपेंद्र सिंह और अजीत सिंह ने लोगों से कहा की चालान क्यों कटाते हैं ढाई सौ का सौ रुपए दीजिए और जाइए आपका भी बचा और हमको भी मिले वैसे भी राष्ट्रीय राजमार्ग पर चैकिंग दो पहिया वाहनों की किस आधार पर कराई जा रही है बताने वाला भी वहां कोई नहीं था क्योंकि जिस तरह से पुलिस लाठी के दम पर अवैध वसूली करने में जुटी थी उससे तो यह पुलिस का नवाचार प्रतीत होता है
626 छात्रों को नहीं मिल पाई साइकल
हीरो कंपनी को मिला था ठेका लेकिन दिखा दिया अपनी हीरोगिरी सत्र समाप्त होने को आया
सतना, मारूति एक्सप्रेस।
जिले के सर्व शिक्षा अभियान अंतर्गत ऑटो ब्लॉक में लगभग 626 छात्र-छात्राओं को सत्र समाप्ति होने के कगार पर है लेकिन आज तक साइकिल उपलब्ध नहीं हो पाए तो क्या इसी तरह सर्व शिक्षा अभियान शिवराज सिंह के सपने को साकार करेगा ऐसा नहीं कि इसमें सर्व शिक्षा अभियान और जिला मिशन संचालक की गलती है बल्कि राज्य शिक्षा केंद्र द्वारा किए गए टेंडर प्रक्रिया के बाद जिन कंपनियों को ठेका दिया गया था आज तक उन्होंने 626 साइकिल उपलब्ध ही नहीं करा पाए तो क्या इसके पीछे एक बड़ा खेल खेला जा रहा यह तो राज शिक्षा केंद्र और उनके कर्ता धर्ता ही बता पाएंगे लेकिन जिस तरह से जिले में लगभग 626 छात्र छात्राओं को आज तक साइकिल उपलब्ध नहीं हो पाए उससे शैक्षणिक व्यवस्था और अधिकारियों की कार्यशैली पर ही प्रश्नचिन्ह खड़ा होता क्योंकि भोपाल में बैठने वाले तो ऑर्डर कैसे करते हैं जैसे तत्काल इसका पालन हो जाए लेकिन जब वही काम उन्हीं के कार्यालय मनमानी पूर्ण होने लगा तब कार्यवाही सरकार किसके ऊपर करेगी क्योंकि राज शिक्षा केंद्र की लापरवाही कहिए मनमानी मुख्यमंत्री की योजनाओं पर किस तरह से ये पानी फेर रहे हैं यह किसी को बताने की जरूरत नहीं है
॥द्गह्म्श को मिला ठेका लेकिन काम जीरो वाला
सर्व शिक्षा अभियान में साइकिल के सप्लाई का काम द्धद्गह्म्श कंपनी को मिला था वह भी राज शिक्षा केंद्र के रहमो करम पर विभागीय जानकार बताते हैं की साइकिल के ठेके मेरा शिक्षा केंद्र ने द्धद्गह्म्श कंपनी से सांठगांठ करके लंबा खेल खेला था लेकिन अब वही कंपनी इन को ठेंगा दिखा रही है बताया जा रहा कि जिले में आठ विकासखंडों में लगभग 626 छात्र-छात्राएं अभी भी साइकल से वंचित अंजलि सत्र समाप्ति की ओर बढ़ रहा है तो क्या इन छात्र छात्राओं को साइकिल नहीं उपलब्ध हो पाएगी ऐसा ही लगता क्योंकि जिस तरह से साल भर बाद भी कंपनी द्वारा आज तक साइकिल नहीं दी गई उस से तो यही प्रतीत होता है कि लापरवाही बन मनमानी सर्व शिक्षा अभियान पर हावी है
मामा के सपनों पर ग्रहण लगा रहा राज शिक्षा केंद्र
जिस तरह से प्रदेश के मुखिया मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी छात्र छात्राओं को शिक्षा से जोडऩे के लिए कई अति महत्वाकांक्षी योजनाएं संचालित की उन्हीं की योजनाओं पर पानी फेर रहा है राज शिक्षा केंद्र क्योंकि जिस तरह से सत्र समाप्ति के पश्चात भी छात्र छात्राओं को योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है उसके बाद भी ना तो इस कंपनी के ऊपर आज तक कोई कार्यवाही की गई और ना ही छात्रों को साइकिल ऑफ मध्य कराई गई इससे तो यही प्रतीत हो रहा कि मामा के सपनों पर ही पानी फेर रहा राज शिक्षा केंद्र का अमला जिस तरह से शिक्षा विभाग को लेकर मुख्यमंत्री गंभीर रहते हैं लेकिन राज शिक्षा केंद्र उनकी गंभीरता पर पानी फिरता नजर आ रहा है क्योंकि छात्रों के मामा ने शिक्षा देने का प्रदेश के नागरिकों से वादा किया और योजनाओं का लाभ पहुंचाने का भी लेकर शिक्षा विभाग द्वारा शिक्षा केंद्र की मनमानी और उदासीनता के चलते उनके कामो पर ग्रहण लगता जा रहा
                 Image..                         Open a new window
Top News
 
संसद में आदित्यनाथ बोले, मोदी सरकार ने देश की साख बढ़ाई
 
सीएम योगी ने सरकारी दफ्तरों में पान मसाला, गुटखे पर लगाया बैन
 
पुणे पिच विवाद: क्यूरेटर तो सिर्फ मोहरा है, पर्दे के पीछे असल में है कौन?
 
संभाग से ख़बरें
Bhopal
117.204.206.233A39386bhopal.jpgभोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। कोलार के दानिश कुंज गिरधर परिसर स्थित किड्जी स्कूल की नर्सरी की तीन साल की मासूम छात्रा को संचालक ने ज्यादती का शिकार बनाया।
Satna
117.204.206.233A24353satna.jpgसतना . राष्ट्रऋषि नानाजी देशमुख की सातवी पुण्यतिथि के अवसर पर जनसहभागिता से सम्पन्न हुये विशाल भण्डारे में प्रदेश के ग्रामीण विकास मंत्री गोपाल भार्गव
Rewa
117.204.206.233A14109rewa.jpgरीवा . खनिज साधन एवं उद्योग मंत्री राजेन्द्र शुक्ल का आज रीवा जनपद अंतर्गत खौर ग्राम पंचायत में सम्मान किया गया। इस अवसर पर ग्रामवासियों ने मंत्री जी का
 
Jabalpur
117.204.206.233A3827jabalpur.jpgजबलपुर। पूर्व मंत्री अजय विश्नोई की अनुश्री होटल में देर रात पुलिस ने छापा मारकर होटल मैनेजर सहित जुआ खेल रहे नौ लोगों को पकड़ा है। उनके पास से 5 लाख 77 हजा
Indore
117.204.206.233A59413rr_cat_indore_2017228_114959_28_02_2017.jpgइंदौर, हर्षल सिंह राठौड़। विज्ञान के क्षेत्र में शहर के हाथों एक और उपलब्धि लग गई है। अभी तक जिस विधि के बारे में दुनियाभर के वैज्ञानिकों ने सोचा भी नहीं
Sagar
117.204.206.233A99319download.jpgसागर . राज्य शासन ने शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर किसानों को अल्पावधि कृषि ऋण देने की योजना को निरंतर रखते हुए खरीफ सीजन के लिये ड्यू डेट 28 मार्च निर्धारित की
खेल मनोरंजन फिल्म
पुणे पिच विवाद: क्यूरेटर तो सिर्फ मोहरा है, पर्दे के पीछे असल में है कौन?
नासा ने अंतरिक्ष में उगाई बंद गोभी!
मेरे बाथरूम टाइल्स जैसी है प्रियंका चोपड़ा की ड्रेस
Photo Albums
NO Photo available in this Album!!
 
विज्ञापन
Market Watch
Hot Pictures of the Day
 
 Yes
 No
 Cannot say
 
News paper PDF