Wed Jul 18 15:33:08

हिंदू पाकिस्तान की उपमा भारतीयों का अपमान: शिवराज
भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस सांसद शशि थरूर के बयान को हर भारतीय का अपमान बताया है। उन्होंने कहा जिसकी लोकशाही की मिसाल पूरा विश्व देता है, ऐसे हमारे प्यारे देश को हिंदू पाकिस्तान की उपमा देना, भाजपा का ही नहीं बल्कि हर भारतीय का अपमान है। मुख्यमंत्री ने तंज कसते हुए कहा कि धर्म व जाति के नाम पर वर्षों तक देश को बांटने का काम करने वाली कांग्रेस से और आप क्या उम्मीद रख सकते हैं?
भाजपा सरकार तोड़ रही पौराणिक काल के मंदिर: दिग्विजय
इस बीच, पूर्व मुख्यमंत्री एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने भाजपा सरकार पर मंदिर तोडऩे का आरोप लगाया है। दिग्विजय ने कहा कि काशी में बाबा विश्वनाथ की गली में केंद्र सरकार मंदिर तोड़ रही है। दिग्विजय ने सवाल उठाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीजी आपके संसदीय क्षेत्र में पौराणिक काल के मंदिर लगातार तोड़े जा रहे हैं, क्या ये मंदिर आपकी सहमति से तोड़े जा रहे हैं?
वरिष्ठ पत्रकार की असामयिक मौत के जिम्मेदार को बख्शा नहीं जाएगा : सीएम
इंदौर। सीएम शिवराज सिंह चौहान रविवार सुबह पत्रकार कल्पेश याग्निक के निवास पर पहुंचे, उन्होंने परिजनों भेंट कर शोक संवेदनाएं व्यक्त की। सीएम ने कहा कि कल्पेश जी की असामयिक मौत के लिए जिम्मेदार को बख्शा नहीं जाएगा। जो पत्र उन्होंने एडीजी अजय शर्मा को सौंपा था उसे अनदेखा नहीं किया जाएगा। सीएम के कड़े रुख के बाद सूत्रों ने संकेत दिए हैं कि मामले में जिस महिला पत्रकार का नाम आ रहा है उसकी जल्द गिरफ्तारी हो सकती है। प्राप्त जानकारी के अनुसार कल्पेश याग्निक को महिला पत्रकार झूठे केस में फंसाने की धमकी दे रही थी। उन्होंने आत्महत्या से पांच दिन पूर्व एडीजी को इसकी लिखित सूचना दी थी। एडीजी अजयकुमार शर्मा ने बताया कि याग्निक करीब 5 दिन पूर्व उनसे मिलने आए थे। उन्होंने एक लिफाफा सौंपा और बताया कि संस्थान द्वारा नौकरी से हटाने पर एक महिला पत्रकार दोबारा नौकरी लगाने का दबाव बना रही है। वह उन्हें किसी भी केस में फंसाने की धमकी भी दे रही है। अगर वह उनके खिलाफ शिकायत करे तो एक बार उनका पक्ष जरूर सुना जाए। एडीजी ने यह पत्र डीआईजी को भेज दिया था।
कल्पेश याग्निक के निवास पर पहुंचे सीएम
डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र ने बताया कि याग्निक ने कार्रवाई की मांग नहीं की थी। वे केस दर्ज कराने की आशंका पर सिर्फ सूचना दर्ज करवाने आए थे।
मिर्जापुर में पीएम मोदी, पिछली सरकारों पर साधा निशाना-कहा किसानों की नहीं की चिंता
मिर्जापुर। पीएम नरेंद्र मोदी आज मिर्जापुर में उस बाण सागर परियोजना का लोकार्पण किया, जिसकी परिकल्पना 1956 में की गई थी। इसको मंजूरी मिली 1977 में तथा शिलान्यास 1978 में किया गया। इसके बाद चार दशक तक इसकी ओर किसी का ध्यान नहीं गया। इस दौरान उन्होंने पिछली सरकारों पर निशाना साधा। पीएम मोदी ने कहा कि पिछली सरकारों ने किसानों की चिंता नहीं की। उन्होंने कहा कि 300 करोड़ की परियोजना को पूरा करने में 3200 करोड़ रुपए में पूरा करना पड़ा। उन्होंने कहा कुछ लोग किसानों के नाम पर घडिय़ाली आंसू बहाते हैं। अधूरी सिंचाई परियोजानाओं को पूरा क्यों नहीं किया गया। मोदी ने कहा कि देशभर में दशकों से अटकी परियोजनाओं को पूरा किया जा रहा है। सपा और बसपा की सरकार में विकास का एजेंडा था ही नहीं कभी। कांग्रेस की पूर्व सरकार ने कभी यूपी में स्वास्थ्य सुविधा का ख्याल नहीं किया, मोदी के नेतृत्व में 8 नए मेडिकल कालेज खुलने जा रहा है, एम्स और कैंसर संस्थान मिल रहा है। यूपी में भ्रष्टाचार पर अंकुश लगा और विकास तेज हुआ है। बताते चलें कि केंद्रीय जल विद्युत शक्ति आयोग से 1977 में इस परियोजना को स्वीकृति मिलने के बाद 14 मई 1978 को ही इसका शिलान्यास तत्कालीन प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई ने किया। इसके बाद शासन-प्रशासन के दांव-पेंच के चलते अभी तक इसे अमलीजामा नहीं पहनाया जा सका था। मगर,अब इस परियोजना को मौजूदा केंद्र व प्रदेश की सरकार ने परवान चढ़ाया। परियोजना से उत्तर प्रदेश के साथ ही बिहार व मध्य प्रदेश के भी लाखों किसानों को लाभ मिलेगा। करीब 3148.91 करोड़ रुपए की लागत से तैयार बाणसागर परियोजना के रामबाण से प्रधानमंत्री विकास का पूरे देश को नया संदेश दिया। इसके साथ ही विंध्य की धरती से आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर हुंकार भरेंगे।
2022 तक किसानों की आय दोगुना करने का लक्ष्य
अरहर के सरकारी मूल्य में सवा दो सौ रुपए की सीधी बढ़ोत्तरी की गई है। बिना किसी का नाम लिए कांग्रेस पर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा कि फसल की लागत का डेढ़ गुना एमएसपी क्यों नहीं किया गया। यूरिया के लिए लाठी चार्ज होता था, कालाबाजारी होती थी। पिछले चार साल में यह संकट खत्म हो गया है।
कार्यक्रम में छलके कुमारस्वामी के आंसू, बोले- पी रहा हूं गठबंधन सरकार का जहर
बेंगलुरु। कर्नाटक में सरकार गठन को लेकर चले लंबे सियासी ड्रामे के बाद अब राज्य के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी के एक बयान ने राजनीतिक गलियारों में फिर से हलचल पैदा कर दी है। कर्नाटक में गठबंधन की सरकार चलाना मुख्यमंत्री के लिए विषपान करने जैसा हो गया है। ये बात किसी और ने नहीं बल्कि खुद कुमारस्वामी ने कही है। शनिवार को एक कार्यक्रम के दौरान कुमारस्वामी का दर्द आंसू बनकर आंखों से छलकता दिखा। इससे यह तो साफ हो गया है कि कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस के बीच कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है। सूबे के मुख्यमंत्री और जेडीएस नेता कुमारस्वामी ने कहा है कि वे सत्ता में तो हैं, लेकिन इसके लिए उन्हें नीलकंठ की तरह विष पीना पड़ रहा है। उन्होंने कहा, 'मैं जानता हूं कि मैं मुख्यमंत्री बना इसकी वजह से आप खुश हैं, लेकिन मैं खुश नहीं हूं। मैं भगवान नीलकंठ की तरह विष पी रहा हूं।' ये कहते-कहते मुख्यमंत्री की आंखें भर आईं। उन्होंने कहा कि वर्तमान के हालात से वे बिल्कुल खुश नहीं हैं। बता दें कि ये सारी बातें कुमारस्वामी ने शनिवार को बेंगलुरु में आयोजित जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) द्वारा आयोजित सम्मान समारोह में कही।
मैं चाहूं तो 2 घंटे में छोड़ दूं सीएम पद
भावुक कुमारस्वामी ने कर्ज माफी का जिक्र करते हुए कहा कि कोई नहीं जानता कि इस कदम को उठाने के लिए अधिकारियों को चालाकी से मनाना पड़ा। सीएम ने कहा, अब वे अन्ना भाग्य स्कीम में 5 किलो चावल की बजाय 7 किलो देना चाहते हैं। मैं इसके लिए कहां से 2500 करोड़ रुपये लेकर आऊं? टैक्स लगाने के लिए मेरी आलोचना हो रही है। इन सबके बावजूद मीडिया कह रही है कि मेरी कर्ज माफी की स्कीम में स्पष्टता नहीं है। अगर मैं चाहूं तो 2 घंटेे के भीतर सीएम का पद छोड़ दूं। बता दें कि हाल ही में कर्नाटक में कुमारस्वामी की गठबंधन सरकार ने अपना पहला बजट पेश किया था।कुमारस्वामी ने बजट के दौरान किसानों की कर्जमाफी के लिए 34,000 करोड़ रुपये आवंटित करने का एलान किया। साथ ही, पेट्रोल और डीजल पर टैक्?स बढ़ाने का भी निर्णय लिया। पेट्रोल के दाम 1.14 रुपए प्रतिलीटर, डीजल 1.12 रुपए प्रतिलीटर और बिजली दरें 20 पैसे बढ़ा दी गई। जिसका जिक्र कुमारस्वामी अपने भाषण में कर रहे थे।
लोगों की भलाई के लिए पद पर
इस दौरान उन्होंने कहा कि ईश्वर ने उन्हें यह शक्ति (सीएम पद) प्रदान की है। अब वे तय करेंगे कि मुझे कितने दिन रहना है। एक तरह से विधानसभा चुनावों में अपनी पार्टी के खराब प्रदर्शन को स्वीकारते हुए उन्होंने कहा उन्होंने सीएम का पद केवल लोगों की भलाई के लिए लिया है। सीएम ने कहा कि मेरा सपना था कि मैं पार्टी के वादों और अपने पिता एचडी देवगौड़ा के अधूरे कामों को पूरा करूं। यह ताकत हासिल करने के लिए नहीं था।
समझिए कर्नाटक की सियासी जंग -
- कर्नाटक विधानसभा चुनाव में किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिला था।
- भाजपा राज्य में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी।
- भाजपा को रोकने के लिए कांग्रेस और जेडीएस ने चुनाव बाद गठबंधन कर लिया।
- कांग्रेस ने ज्यादा सीटें (78) जीतने के बावजूद जेडीएस नेता कुमारस्वामी को मुख्यमंत्री बनाने का ऑफर दिया।
- कुमारस्वामी ने 23 मई को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली।
- शपथग्रहण के बाद मंत्री पद के बंटवारों, किसान कर्जमाफी, पेट्रोल-डीजल की कीमत जैसे मसलों पर कई बार जेडीएस और कांग्रेस आमने-सामने नजर आए।
- झगड़ा सुलझाने के लिए कई बार कुमारस्वामी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात भी की
- अब खुद मुख्यमंत्री ने विष पीने की बात कही है।
                 Image..                         Open a new window
Top News
 
लोक अदालतें प्रकरणों के निराकरण का सबसे सुलभ व सस्ता माध्यम
 
कार्यक्रम में छलके कुमारस्वामी के आंसू, बोले- पी रहा हूं गठबंधन सरकार का जहर
 
विराट कोहली ने इस खिलाड़ी के घर उठाया बिरयानी का लुत्फ
 
संभाग से ख़बरें
Bhopal
117.248.224.137A975799.jpgसंबंधित विभाग सड़क एवं नालों का तत्काल मौका मुआयना कर कार्य करें
भोपाल. संभागायुक्त श्री कवीन्द्र कियावत ने कहा कि 11 जुलाई को भोपाल में हुई वर्षा से कु
Satna
117.248.224.137A481556.jpgसतना। जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री डी.एन.शुक्ला ने कहा कि जिला अदालत के माध्यम से निराकृत होने वाले प्रकरणों में कोई पक्षकार नहीं हारता, बल्कि दोनों पक्
Rewa
117.248.224.137A44405.jpgरीवा। आज आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत में एक हजार 618 प्रकरणों का आपसी समझौते के आधार पर निराकरण किया गया तथा 6 करोड़ 51 लाख 95 हजार 705 रूपये की समझौता राशि निश्चि
 
Jabalpur
117.248.224.137A168568.jpgजबलपुर। कलेक्टर श्रीमती छवि भारद्वाज ने औद्योगिक क्षेत्र रिछाई के समीप बन रहे रेल ओव्हर ब्रिज के निर्माण के चलते आम नागरिकों और वाहनों के आवागमन में हो
Indore
117.248.224.137A7424810.jpgइन्दौर. उद्योग मंत्री श्री राजेंद्र शुक्ल ने आज इंदौर स्थित आईटी पार्क का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने वहां वेस्ट मैनेजमेंट हेतु बनाए गए कचरा प्ला
Sagar
117.248.224.137A803857.jpg41 खण्डपीठों द्वारा निराकृत किए गए 1318 प्रकरण, क्षतिपूर्ति राशि रूपये 24219431/- पीडि़त पक्षकारों को दी गई
सागर . माननीय एस.के.शर्मा, जिला एवं सत्र न्यायाधीश/अध्य
खेल मनोरंजन फिल्म
विराट कोहली ने इस खिलाड़ी के घर उठाया बिरयानी का लुत्फ
इस बार कई रूप बदलने वाली है नागिन
रणबीर कपूर बने डाकू, फिल्म का नाम है शमशेरा
Photo Albums
1
 
विज्ञापन
Market Watch
Hot Pictures of the Day
 
 Yes
 No
 Cannot say
 
News paper PDF