गृहमंत्री ने तेंदूपत्ता संग्राहकों को वर्ष २०१७ सीजन की बोनस राशि का किया वितरण

सागर। वन विभाग द्वारा  मालथौन नवीन कृषि उपज मंडी में शुक्रवार को आयोजित कार्यक्रम में तेंदूपत्ता संग्राहकों को वर्ष २०१७ सीजन की बोनस राशि का वितरण किया गया। इस कार्यक्रम में कम्प्यूटर के माउस से एक क्लिक कर संग्राहकों के बैंक खाते में ई-पेमेंट से ४० करोड़ रुपये की राशि हस्तांतरित की गई। अपने संबोधन में मंत्री श्री सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा आज पूरे प्रदेश में तेंदूपत्ता श्रमिकों को ७०० करोड़ रूपए बोनस के रूप में दिए जा रहे हैं। इन श्रमिकों का जीवन खुशहाल बनाने के लिए मुख्यमंत्री ने बोनस राशि बढ़ा कर दो हजार रूपए कर दी है। यह वर्ष २०१७ को बोनस दिया जा रहा है। इसके साथ ही तेन्दूपत्ता श्रमिकों का बीमा भी कराया जा रहा है। इससे इनके दुख तकलीफ में सरकार से मदद मिल सकेगी। इस अवसर पर तेंदूपत्ता संग्राहकों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार तेंदूपत्ता संग्राहकों की बेहतरी के लिए अच्छा कार्य कर रही है। बोनस के रूप में तेंदूपत्ता संग्राहकों को बोनस के रूप में बड़ी राशि मिलने जा रही है। इससे संग्राहकों की जीवन स्तर अच्छा बनेगा और उन्हें आने वाले वर्षों में और अधिक मात्रा में तेंदूपत्ता संग्रहण की प्रेरणा मिलेगी प्रदेश सरकार ने इस वर्ष तेंदूपत्ता संग्रहण की दर बढ़ाकर दो हजार रुपये प्रति मानक बोरा कर दी है। इससे संग्राहकों को मजदूरी के रूप में बड़ी राशि मिली है।  प्रदेश सरकार ने गरीबी को दूर करने के लिए मुख्यमंत्री जनकल्याण( संबल) योजना लागू की है। इस योजना का लाभ असंगठित क्षेत्र के मजदूरों एवं तेंदूपत्ता संग्राहकों को भी मिल रहा है। संबल योजना में पंजीकृत श्रमिकों को २०० रुपये का ही बिजली बिल देना है। इससे अधिक बिजली बिल आने पर ऊपर की राशि प्रदेश सरकार भरेगी। प्रदेश सरकार भूमिहीन लोगों को मकान बनाने के लिए आवासीय जमीन का पट्टा दे रही है। इस अवसर पर कलेक्टर श्री सिंह ने भी अपने विचार व्यक्त किये। कार्यक्रम में मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने ४४६ आवासीय पट्टे भी वितरित किए। संबल योजना के तहत दो हितग्राहियों को उनके परिवार में दुर्घटना से हुई असमय मौत पर चार-चार लाख रूपए दिए। गृहमंत्री श्री सिंह ने मंच से घोषणा की कि मालथौन जनपद पंचायत को आवास योजना के तहत लक्ष्य पूरा करने पर दो लाख रूपए का पुरस्कार दिया जा रहा है। साथ ही मालथौन जनपद को खुले में शौंच मुक्त भी घोषित किया जा रहा है। इस अवसर पर कलेक्टर आलोक कुमार, पुलिस अधीक्षक सत्येन्द्र कुमार शुक्ला, मुख्य वन संरक्षक श्री सिंह, डीएफओ श्री प्रसान्त कुमार सिंह, जिला पंचायत सीईओ श्री चन्द्रशेखर शुक्ला, सहित बड़ी संख्या जिले भर से आए तेन्दूपत्ता श्रमिक उपस्थित थे।