आरएसएस प्रमुख ने फिर लगाई दहाड़, कहा किसी भी कीमत पर बनेगा राम मंदिर

मुंबई: आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने मंगलवार को कहा कि विपक्षी दल अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का खुला विरोध नहीं कर सकते क्योंकि वे जानते हैं कि देश की आबादी का एक बड़ा तबका श्रीराम को मानता है और विपक्षी उनकी भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचा सकते. उन्होंने कहा कि इस मामले में देश के 'संतों' को नेतृत्व करना चाहिए क्योंकि वे सरकार द्वारा सामना की गई सीमाओं से बाध्य नहीं है. भागवत धर्म जागरण विभाग द्वारा आयोजित साधु की एक मंडली साधु स्वध्याय संगम शिविर के वैचारिक समारोह को संबोधित कर रहे थे, इस दौरान उन्होंने कहा कि राम मंदिर किसी भी कीमत पर बनाया जाएगा. गौरतलब है कि आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत का ये दावा उस समय आया है, जब कांग्रेस खुद को सॉफ्ट हिंदुत्व के रूप में पेश कर रही है, इससे पहले भी कई बार विपक्ष कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी को शिवभक्त और रामभक्त के रूप में प्रस्तुत कर चुकी है. यह टिप्पणी भगवत की राम मंदिर के निर्माण के लिए पहली सार्वजनिक टिप्पणी थी क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या साइट के विवाद से उत्पन्न होने वाले मामले में तेजी से सुनवाई के तरीके को मंजूरी दे दी थी. यह बताते हुए कि सरकार को बाध्यताओं के तहत काम करना पड़ा, भागवत ने जोर दिया, हालांकि, संत और साधक ऐसी सीमाओं से परे हैं और उन्हें धर्म, देश और समाज के उत्थान के लिए काम करना चाहिए.