IMF ने GST को बताया सही, कहा पीएम मोदी की नीतियों के कारण तेज़ी से बढ़ रहा भारत

न्यूयोर्क: अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने मंगलवार को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व के तहत किए गए आर्थिक सुधारों को स्वीकार किया और भारत को इस वर्ष और अगले वर्ष दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था होने की बात कही. बाली में आईएमएफ की वार्षिक बैठक से पहले जारी किए गए विश्व आर्थिक आउटलुक (WEO) में कहा गया है कि, भारत में, हाल के वर्षों में सामान और सेवा कर(GST) , मुद्रास्फीति-लक्ष्यीकरण ढांचे, दिवालियापन और दिवालियापन संहिता सहित महत्वपूर्ण सुधार लागू किए गए हैं और विदेशी निवेश को उदार बनाने और व्यापार करने में आसान बनाने के लिए बढ़िया कदम उठाए गए हैं. आईएमएफ ने बताया कि 2017 में भारत की विकास दर 6.7 प्रतिशत थी, जो 2018 में 7.3 तक पहुँच जाएगा और 2019 में भारत का विकास दर 7.4 के आगे जाने की सम्भावना आईएमएफ ने जताई है. गौरतलब है कि हाल के दिनों में वैश्विक तौर पर क्रूड आयल की कीमतों में आए उछाल से दुनिया भर की आर्थिक स्थिति चरमरा गई थी, साथ ही भारत ने रुपए के अवमूल्यन की दोहरी मार भी झेली है, लेकिन इन सबके बाद भी आईएमएफ ने सम्भावना जताई है कि 2018 का विकास दर 2017 के मुक़ाबले ज्यादा रहेगा. आईएमएफ ने कहा है कि 2017 में चीन सबसे तेज़ी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था था, लेकिन वो भारत से सिर्फ 0.2 प्रतिशत ही ज्यादा था, आईएमएफ ने अनुमान जताया कि 2019 तक भारत, चीन को भी पछाड़ते हुए आगे निकल जाएगा. आपको बता दें कि जहाँ दुनिया भर में पीएम मोदी के कार्यों की तारीफ हो रही है, वहीं भारत में ही विपक्ष उन्हें गलत साबित करने में लगा हुआ है. केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की कट्टर प्रतिद्वंदी पार्टी कांग्रेस हमेशा से नोटबंदी और GST को लेकर केंद्र सरकार पर हमले लगाते रही है. विपक्ष का हंमेशा से ये कहना रहा है कि GST और नोटबंदी से देश की अर्थव्यवस्था को बड़ा झटका लगा है, साथ ही इससे विकास दर भी गिरी है, लेकिन आईएमएफ इस इस रिपोर्ट ने विपक्ष के आरोपों को ख़ारिज करते हुए कहा है कि आने वाले वर्षों में भारत सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था बन जाएगा.

0 Comments