आज विदेश से लौट रहे केंद्रीय मंत्री अकबर, देना पड़ सकता है इस्तीफा

नई दिल्ली : MeToo अभियान अब तूल पकड़ता जा रहा है. इसमें केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर भी घिर चुके हैं और अब बुरी तरह फंस भी चुके हैं. अकबर पर भी यौन उत्पीड़न का आरोप लग चुका है. इन्ही आरोपों के तहत कांग्रेस और समाजवादी पार्टी ने उनसे इस्तीफे की मांग की है. बता दें, फ़िलहाल वो नाइजीरिया की आधिकारिक यात्रा पर हैं और वहां से लौटने के बाद केंद्र सरकार उनसे इस्तीफा देने को कह सकती है. सूत्रों का कहना है कि उन पर गंभीर आरोप लगे हैं जिनका बचाव कर पाना भी मुश्किल है. गुरुवार को उनके लौटते ही उन्हें मंत्री पद छोड़ने के लिए कहा जा सकता है. इस बारे में भाजपा के एक उच्च स्तरीय सूत्र ने कहा कि उन पर इस मामले में कार्रवाई की जाएगी लेकिन नाइजीरिया से लौटने के बाद पहले उन्हें एक मौका दिया जायेगा कि वो अपने ऊपर लगे सारे आरोपों की सफाई दे सके. जानकारी के लिए बता दें प्रिया रमानी और प्रेरणा सिंह बिंद्रा नाम की दो महिला पत्रकारों ने एमजे अकबर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है. आपको बता दें, फ़िलहाल एमजे अकबर के सपोर्ट में भाजपा सांसद उदित राज आगे आये हैं और उन महिलाओं के लिए कहा है कि 10 साल बाद वे क्यों सामने आई हैं. इतना ही नहीं उदितराज ने 'मी टू' अभियान को गलत शुरुआत भी बताया है. उनका कहना है कि इतने देरी से शुरुआत हुई तो आरोपों की जाँच कैसे होगी. कांग्रेस ने अकबर के इस्तीफे पर पूछा तो पार्टी के वरिष्ठ प्रवक्ता एस. जयपाल रेड्डी ने कहा कि पहले एमजे अकबर के आचरण की जांच होनी चाहिए.