चहल का खुलासा, इस खेल की वजह से मिल रही क्रिकेट में सफलता

साउथम्पटन। भारतीय स्पिनर युजवेंद्र चहल का मानना है कि बचपन में चेस खेलने की वजह से उन्हें बल्लेबाज के दिमाग को पढऩे और क्रिकेट में सफलता हासिल करने में मदद मिल रही हैं। कप्तान विराट कोहली का मानना है कि इस काबिलियत की वजह से यह लेग स्पिनर अन्य गेंदबाजों की तुलना में ज्यादा प्रभावशाली साबित हो रहा है। चहल ने बुधवार को वल्र्ड कप में शानदार डेब्यू कर 51 रनों पर 4 विकेट लेते हुए भारत की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने कहा, चेस की वजह से मैंने संमय बरतना और प्लानिंग सिखी। जब आप शतरंज खेलते हो तो आप सामान्यतया 15-16 चालों का प्लान पहले ही कर लेते हो। जब आप फॉफ डु प्लेसिस जैसे बल्लेबाज को गेंद डालते हो तो पहले से तय करना होता है कि आप गुगली डालोगे या फ्लिपर। यह देखना होता है कि वो कौनसी गेंद को समझ रहे हैं और कौनसी गेंद को नहीं। उन्होंने कहा, मुझे फॉफ को आउट करने में मजा आया। मैंने उनके एप्रोच को देखकर प्लान बनाया और ऑफ स्टंप पर स्लाइडर गेंद डाली जिसे वो समझ नहीं पाए। कोहली ने चहल की तारीफ करते हुए कहा, चहल ऐसे गेंदबाज है जो किसी भी परिस्थिति में गेंदबाजी करने से इंकार नहीं करते हैं। वे पॉवरप्ले में गेंद डालने को तैयार रहते हैं। यदि आप सात फील्डरों को सर्कल के अंदर रखोगे तो भी वे गेंदबाजी करने को तैयार रहते हैं। उनमें जबर्दस्त आत्मविश्वास है और खेल के बारे में उनकी सोच दूसरे खिलाडिय़ों से एकदम अलग रहती हैं। चहल पिच के चरित्र को अच्छी तरह पहचानते हैं और उन्हें यह पता होता है कि क्या करना है। यह उनकी ताकत है। आज उन्होंने जो हासिल किया, इसका पूरा श्रेय उन्हें जाता हैं।

0 Comments