प्रो. कुठियाला की तलाश में हरियाणा में दो जगह दबिश, पर नहीं मिले, फरार घोषित

भोपाल। माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय में नियम विरुद्ध नियुक्तियों और आर्थिक अनियमितताओं के आरोपी पूर्व कुलपति प्रो. ब्रज किशोर कुठियाला फरार हो गए हैं। ईओडब्ल्यू की टीम ने हरियाणा के पंचकुला स्थित उनके दफ्तर और घर पर दबिश दी, लेकिन कुठियाला नहीं मिले। इसके बाद जांच एजेंसी ने उन्हें फरार घोषित कर दिया है। संभावित ठिकानों पर दबिश दी जा रही है। ईओडब्ल्यू के मुताबिक कुठियाला की तलाश में ईओडब्ल्यू की टीम गुरुवार रात पंचकुला के लिए रवाना हुई थी। शनिवार सुबह से ईओडब्ल्यू की कार्रवाई शुरू की गई थी। सबसे पहले सेक्टर 12 स्थित कुठियाला के घर पर दबिश दी गई। यहां उनके दो नौकर एक सफाई कर्मचारी, महिला कर्मचारी और एक चौकीदार मिला। जिसके बाद टीम सेक्टर-4 स्थित कुठियाला के दफ्तर पहुंची।  कुठियाला हरियाणा उच्च शिक्षा आयोग के अध्यक्ष हैं। यहां दफ्तर में उनके पीए और अन्य स्टाफ से फरारी पंचनामा पर ईओडब्ल्यू के अधिकारियों ने हस्ताक्षर कराए। कुठियाला मूलत हिमाचल प्रदेश के रहने वाले हंै और उनका दिल्ली में भी आवास होने की जानकारी ईओडब्ल्यू को मिली है। पता चला है कि प्रो. कुठियाला ने सार्वजनिक कार्यक्रमों में हिस्सा लेना बंद कर दिया है। 25 जून को हरियाणा के सीएम की अध्यक्षता में उच्च शिक्षा को लेकर हुई बैठक में भी कुठियाला उपस्थित नहीं थे। 
पूर्व कुलपति डॉ. तिवारी शासकीय असाइनमेंट के लिए अयोग्य घोषित : बरकतउल्ला यूनिवर्सिटी के पूर्व कुलपति डॉ. एमडी तिवारी को मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने किसी भी शासकीय असाइनमेंट के लिए अपात्र घोषित कर दिया है। एमएचआरडी ने डॉ. तिवारी के खिलाफ यह कार्रवाई ट्रिपलआईटी इलाहाबाद में की गई गड़बडिय़ों के कारण की है। यहां इन पर डायरेक्टर रहते हुए आर्थिक गड़बड़ी, एडमिशन में गड़बड़ी, टेंडर प्रक्रिया में गड़बड़ी करने के आरोप हैं। इसलिए एमएचआरडी द्वारा इस संबंध में नोटिस जारी किया गया है। डॉ. तिवारी को बीयू से भी विभिन्न गड़बडिय़ों के चलते राज्य शासन ने धारा 52 लगाकर हटाया था। इनके कार्यकाल में बीयू में हुईं नियुक्तियों पर भी विवाद कायम है। 

0 Comments